तीन दोस्तों ने बंजर जमीन पर शुरू की एलोविरा की खेती

‘सोच को अपनी ले जाओ उस शिखर पर, ताकि उसके आगे सितारे भी झुक जाएं’, इसे सही साबित किया है तीन दोस्‍तों ने। हिसार ऑटो मार्केट के तीन दोस्त संतलाल चित्रा, राजा सोनी और मुकेश सोनी अपनी सोच को वाकई उस शिखर तक ले गए और कामयाबी के सितारे आज उनके कदमों में हैं। उन्‍होंने बंजर भूमि पर खेती कर सालाना 60 लाख रुपये कमा रहे हैं।

एक शुभचिंतक की सलाह पर तीनों ने एलोवेरा की खेती करने की ठानी। दिक्कत यह थी कि उनके पास जौ भर जमीन नहीं थी। लीज पर जमीन लेने का फैसला किया। बहुत मुश्किल से एक किसान ने अपनी दो एकड़ अनुपयोगी पड़ी जमीन दी। तीनों ने उसे अपने श्रम के पसीने से सींचा। आज 62 एकड़ जमीन लीज पर लेकर खुशहाली की फसल काट रहे हैं। रोहतक में आयोजित एग्री लीडरशिप समिट में पहुंचे ये तीनों किसान युवाओं के लिए प्रेरणास्रोत हैं।

तीनों दोस्तों में एक संतलाल चित्रा मोटर मैकेनिक थे। बाकी दो राजा और मुकेश टायर बेचते थे। तीनों के परिवार का बामुश्किल गुजर बसर होता था। एक दिन राजस्थान के चुरू के रहने वाले आबिद हसन अपनी गाड़ी ठीक कराने संतलाल के पास पहुंचे। संतलाल ने आबिद की गाड़ी ठीक कर दी तो आबिद की सलाह ने संतलाल और उनके दोनों दोस्तों की जिंदगी की गाड़ी पटरी पर ला दी।

आबिद ने तीनों को एलोवेरा की खेती के लिए प्रोत्साहित किया। तीनों दोस्तों ने आबिद की सलाह मान ली। पांच साल पहले 2013 में पहले हिसार के चौधरीवास गांव में दो एकड़ बंजर जमीन लीज पर लेकर एलोवेरा की खेती शुरू की। पहले ही साल इन्हें एक लाख रुपये का मुनाफा हुआ। अब ये गांव चौधरीवास में 40 एकड़ और बगला गांव में 22 एकड़ में एलोवेरा की खेती कर रहे हैं। प्रतिवर्ष तीनों को 60 लाख रुपये का मुनाफा होता है।

आबिद खुद करते हैं एलोवेरा की खेती

चुरू में करीब 200 एकड़ जमीन पर एलोवेरा की खेती करने वाले आबिद हसन तीनों को सलाह ही नहीं दी, मार्केट भी उपलब्ध कराया। खुद आबिद पिछले दस साल में एलोवेरा की खेती करके अब बड़े निर्यातक बन गए हैं।

संतलाल, राजा और मुकेश बताते हैं कि एलोवेरा की खेती ने हमें संपन्न बना दिया है। अब हमारा लक्ष्य है कि हम भी खेती से मुंह मोड़ चुके युवाओं को एलोवेरा की खेती के लिए प्रेरित करें। इस समय हमसे दस युवा एलोवेरा की खेती करना सीख रहे हैं। हम चाहते हैं कि सौ युवाओं को इसकी खेती से जोड़ें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *