इस यंत्र से फसलों की हर जानकारी मिलेगी मोबाइल पर, पशु खेत में आने पर भी मिलेगा अलर्ट

एग्रीकल्चर प्रोटेक्शन सिस्टम (एपीएस) डिवाइस खेतों की निगहबानी करेगी। इसे यूं भी कहा जा सकता है कि अब किसान के मोबाइल में उसका पूरा खेत होगा। खेत को किस उर्वरक की जरूरत है, फसल पर कीट पतंगों का हमला, आवारा पशुओं के खेत में आने पर एलर्ट करना, मिट्टी की आद्रता, पीएच वेल्यू और तापमान का पता बताने के साथ सिंचाई पूरी होने तक की जानकारी यह डिवाइस मोबाइल के जरिए किसान तक पहुंचाएगी।

यह डिवाइस चंदौली के बबुरी गांव निवासी मेरठ के आइआइएमटी विवि से इलेक्ट्रॉनिक एवं कम्यूनिकेशन में रिसर्च कर रहे संदीप वर्मा पुत्र संतोष कुमार ने प्रो-वीसी डॉ. दीपा शर्मा के निर्देशन और वीसी प्रो. योगेश मोहन गुप्ता के संरक्षण में तैयार की है। दो साल में कई बार परीक्षण कर इसमें सुधार करने के बाद जुलाई 18 में यह डिवाइस तैयार हुई। सूक्ष्म एवं लघु उद्योग भारत सरकार ने इसके लिए पांच लाख की फंडिंग भी की।

क्या है एपीएस डिवाइस

डिवाइस माइक्रो प्रोससर चिप बेस्ड है। इसमें ह्यूमेंडिटी सेंसर, रेन सेंसर, फायर सेंसर, टेंप्रेचर सेंसर, इरीगेशन सेंसर और मोशन सेंसर लगा है। यह सौर ऊर्जा और बिजली से संचालित है। ये सभी सेंसर खेत की हर हलचल पर नजर रखेंगे। एक एकड़ में यह काम करेगी। इससे ज्यादा क्षेत्रफल पर अतिरिक्त डिवाइस खेत में लगानी होगी।

इस तरह काम करेगी यह डिवाइस

सेंसर लगी डिवाइस खेत में होगी। जबकि कंट्रोलर नलकूप में। डिवाइस किसान के मोबाइल से कनेक्ट रहेगी। खेत में ट्यूबवेल चल रहा है और बारिश हो जाती है तो रेन सेंसर काम करते हुए ट्यूबवेल को बंद कर देगा। यदि बारिश नहीं हुई और मिट्टी सूखने लगी तो सेंसर मोटर को चालू कर देगा। इसमें वाटर लेबल तय करने का विकल्प रहेगा।

खेत में कितने इंच पानी चाहिए इसे सेट करने पर जैसे ही खेत में पानी का तल उस पर पहुंचेगा मोटर बंद हो जाएगी। डिवाइस यह भी बताएगी कि खेत में कब और किस खाद की जरूरत है। खेत में रात्रि या दिन के समय जंगली जानवर आ गए तो मोशन सेंसर मोबाइल पर एलर्ट करेगा। खेत में यदि तार बिछाए गए हैं तो किसान उसमें करेंट एक्टिवेट कर सकेंगे।

क्या कहते हैं शोधार्थी संदीप वर्मा

उन्होंने अपने बारे में बताया, ‘गरीब घर में पैदा हुआ। करीब से खेती किसानी देखी है। बचपन से ही यह लक्ष्य रखा था कि खेती किसानी के लिए कुछ नया करूंगा। अपना विजन प्रो-वीसी डॉ. दीपा शर्मा को बताया। कुछ काम करके भी दिखाया।

उन्होंने कई बदलाव किए। पहली डिवाइस 2016 में तैयार हुई, लेकिन वह कारगर नहीं थी, 2017 में दो प्रयोग किए लेकिन जो चाहता था वैसा तैयार नहीं हुआ। जून 2018 में डिवाइस पूरी तरह से तैयार हो गई। इसका जुलाई में प्रयोग किया जो सफल रहा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *