आप भी ऐसे कर सकते हैं चंदन की खेती, एक किलो लकड़ी की कीमत है 6000 रुपए

चंदन की खेती आपको शेयर मार्केट या मच्यूल फंड से भी ज्यादा इनकम दे सकती है वो भी गारंटी आैर बिना रिस्क के। इसके लिए कम से कम 20 साल जमीन बाउंड करके चलना पड़ेगा क्योंकि सागवान की तरह ही चंदन के पेड़ को तैयार होने में 15 से 20 साल लग जाते हैं।

कर्नाटक में तो इसके भरपूर जंगल हैं लेकिन धीरे-धीरे इसे आैर किसान भी उगाने लगे हैं। गुजरात के भरूच के एक किसान ने 10 लाख लगाकर चंदन की खेती स्टार्ट की थी। 15 से 20 साल में उसने 15 करोड़ की कमाई की थी।

यानी इस हिसाब से प्रति 1 लाख रु का इन्वेस्टमेंट करके 1.5 करोड़ रु का रिटर्न मिला। इसकी लकड़ी 6000 रुपए किलो तक बिक जाती है। आप भी चंदन की खेती कर लाखों-करोड़ों रुपए कमा सकते हैं। यह सामान्य तापमान में पैदा हो सकता है।

चंदन 6000 रुपए किलो बिकता है यानी आम लकड़ी से 15000% ज्यादा

खेती – नर्सरी से पौधे लाकर या फिर बीज डालकर चंदन की खेती की जा सकती है। चंदन का पेड़ लाल दोमट मिट्टी में अच्छा उगता है। यह चट्टानी मैदान, पथरीली मिट्टी में भी हो सकता हैं। गिली मिट्टी में इसकी ग्रोथ कम होती है।

बुवाई- मानसून में इसके पेड़ तेजी से ग्रोथ करते हैं, लेकिन गर्मियों में इन्हें इरीगेशन (सिंचाई) की जरूरत होती है।

सिंचाई – इसमें ड्रिप प्रॉसेस से इरीगेशन किया जाता है। चंदन के पेड़ को 5 से 50 डिग्री सेल्सियस टेम्प्रेचर वाले इलाके में लगाना सही माना जाता है। इसके लिए 7 से 8.5 पीएच वाली मिट्टी परफेक्ट होती है। यानी पंजाब में किसान इसकी खेती का एक्सपेरिमेंट कर सकते हैं। एक एकड़ में औसत 400 पेड़ लगाए जा सकते हैं।

एक पेड़ की जड़ से 3 लीटर तक निकलता है तेल

कितने समय में बढ़ते हैं पेड़-चंदन लगाने के बाद 5वें साल से लकड़ी रसदार बनना शुरू हो जाती है। 12 से 15 साल के बीच यह बिकने के लिए तैयार हो जाता है। चंदन के पेड़ की जड़ से सुगंधित प्रोडक्ट्स बनते हैं। इसलिए पेड़ को काटने के बजाए जड़ से ही उखाड़ा जाता है।

उखाड़ने के बाद इसे टुकड़ों में काटा जाता है। ऐसा करके रसदार लकड़ी को कर लिया जाता है। एवरेज कंडीशन में एक चंदन के पेड़ से करीब 40 किलो तक अच्छी लकड़ी निकल जाती है। चंदन के पेड़ में सबसे महंगी चीज इसका तेल होता है।

एक पेड़ की जड़ से करीब पौने 3 लीटर तक तेल निकलता है। चंदन की खेती को बढ़ावा देने के लिए कई प्रदेशों में यह प्रावधान किया गया है कि चंदन उगाने वाले किसान उसे काट सकेंगे लेकिन इसकी परमिशन लेनी जरूरी होगी।

इन्वेस्टमेंट – एक पौधा 40-50 रुपए में मिलता है। एक एकड़ में 400 पेड़ पर 20 हजार खर्च होंगे। चंदन के पेड़ों का इंश्योरेंस भी करवाया जाता है, क्योंकि इन पेड़ों के चोरी का डर होता है। आप खुद भी इसकी देखरेख कर सकते हैं। इन सबके अलावा सिंचाई पर भी खर्च करना होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *