जाने क्या है चावल की उछलने वाली गेंद का सच्च

आजकल सोशल मीडिया पर प्लास्टिक के चावल होने का अफवाह फैला जा रहा है। विडियों में चावल का गेंद बनाकर उछाला जा रहा है जिससे काफी लोग उस विडियों को सच मान रहे है।

कृषि और प्रसंस्कृत खाद्य निर्यात निर्यात एजेंसी (एपीईडीए) ने प्लास्टिक चावल के बारे में तेजी से फैल रही अफवाहों को पूरी तरह से खारिज कर दिया है। गौरतलब हो कि आजकल सोशल मीडिया पर प्लास्टिक के चावल होने का अफवाह फैला जा रहा है।

इस प्रकार के वीडियो और प्रेस रिपोर्ट भ्रामक हैं क्योंकि कई प्रकार के चावल की ऐसी प्रकृति होती है।
इस के लिए जब एपीईडीए ने असली चावल के साथ प्रयोग क्या तो हैरान कर देने वाली बात सामने आई ।असल में एपीईडीए ने दो तरह के चावल उबाल कर उनकी गेंद बनाई । एक तरह के चावल में कम स्टार्च था और दूसरे में ज्यादा स्टार्च था ।

जब कम स्टार्च वाले चावल की गेंद बनाई गई तो उसकी गेंद तो बन गई लेकिन वो उछल नहीं रही थी लेकिन ज्यादा स्टार्च वाले चावल की गेंद प्लास्टिक गेंद उछल भी रही थी । चावल की गेंद का उछलना उसका प्राकृतिक गुण है ।चावल की गेंद उछलेगी या नहीं ये बात उसमें पाए जाने वाले स्टार्च की मात्रा पर निर्भर करता है।

एपीईडीए ने कहा कि “सोशल मीडिया और मीडिया में सूचना का प्रसार किया जा रहा है, जिससे यह कहा गया है की सिर्फ प्लास्टिक वाले चावल की गेंद उछलती है वो गलत है । दरअसल ज्यादा स्टार्च वाले चावल की गेंद भी वैसे ही उछलती है जैसे प्लास्टिक की बनी हो ।”

भारत दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा चावल पैदा करने वाला देश है. चीन चावल पैदा तो करता है लेकिन विश्व का सिर्फ 1.9 फीसदी चावल एक्सपोर्ट यानि बाहर भेजता है और भारत तो चीन से ना के बराबर चावल खरीदता है.इस लिए इस बात में कोई सचाई नहीं के भारत चीन में चीन के प्लास्टिक के चावल आ रहे है ।