राजस्थान में होगी नारियल की खेती

कृषि के क्षेत्र में राजस्थान अपनी तकदीर और तस्वीर बदलने की कवायद कर रहा है. मरुभूमि राजस्थान में अब नारियल और सुपारी की भी खेती होगी. राज्य सरकार ने ना केवल इसकी तैयारी कर ली है बल्कि केरल से नारियल के 400 पौधे भी मंगवाये जा चुके हैं.

कृषि के क्षेत्र में राजस्थान एक और बड़ा नवाचार करने जा रहा है. आम तौर पर दक्षिण भारत के नम भूमि इलाके में पैदा होने वाले नारियल और सुपारी अब मरुभूमि राजस्थान में भी पैदा होंगे. प्रदेश की विषम परिस्थितियों के बावजूद में यह बड़ी पहल होने जा रही है. नारियल और सुपारी की खेती की तकनीक जानने के लिये पिछले दिनों अधिकारियों का एक दल केरल गया था जो वहां से प्रशिक्षण हासिल कर लौटा है.

केरल स्थित आईसीएआर के रिसर्च सेंटर से नारियल के 400 पौधे मंगलवार को ही राजस्थान लाये जा चुके हैं जिन्हें टोंक के थड़ोली स्थित सेंटर ऑफ एक्सीलेंस पर रोपा जाएगा. सुपारी के भी 400 पौधे करीब एक महीने बाद राजस्थान लाये जायेंगे.

कृषि मंत्री प्रभुलाल सैनी का कहना है कि शुरुआत में दो-दो हैक्टेयर क्षेत्र में नारियल और सुपारी की पैदावार की जायेगी. इसके लिये राजस्व विभाग द्वारा बीसलपुर के तल क्षेत्र टोंक के थलोड़ी में जमीन आवंटित की गई है. इस जमीन की चारदीवारी करवाई जाकर ट्यूबवेल, सोलर पम्प और ऑफिस आदि की स्वीकृतियां जारी कर दी गई है. इस नवाचार के लिये राज्य सरकार द्वारा 10 करोड़ का बजट उपलब्ध करवाया गया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *