गन्ने की 25% ज्यादा पैदवार के लिए गन्ने के साथ ऐसे उगाएं चना

गन्ने-चने की शरदकालीन मिश्रित खेती से श्री भगत सिंह (M: 9466941251) गांव कहानगड़- शाहबाद जिला कुरूक्षेत्र (हरिय़ाना ) ने पिछले तीन सालो मे अपनी आमदनी को दुगना कर दिखाया है !

शरदकालीन बीजाई मे (अक्तुबर माह) गन्ने की पैदवार लगभग 25% ज्यादा होती हैं ! पर किसान गेहू की फसल के लालच मे, गन्ने की बीजाई अप्रेल मे देर से करते हैं !

यह फसल भगत सिंह ने 4 एकड़ में उगाई है। चना बैड पर तीन लाइन में है, चौथी नाली में गन्ने की फसल अक्टूबर अंत में बिजाई की गई। मार्च के प्रथम सप्ताह में चने का छोलिया होगा, चने की फसल के साथ गन्ने का उत्पादन होगा।

क्या होता है फायदा:

किसान के अनुसार सर्दकालीन गन्ने की खेती दो साल से कर रहे है। इससे 25 फीसदी अधिक पैदावार होती है। यही नहीं धरती की उर्वरा शक्ति भी खूब बनी रहती है। गन्ने में पानी हलका नालियाें में ही देते हैं।

इसका समाधान हैं गन्ने- चने की शरदकालीन मिश्रित खेती, ज़िसे चने की सीधी बढवार वाली किसम HC-5 ने ज्यादा आसान कर दिया हैं ! क्योंकि किसान को गन्ने की फसल के पूरी पैदवार के साथ , 8 किवटल प्रति एंकड़ चने की फसल भी मिलती हैं और ज़मीन की उपजाऊ शक्ती भी बनी रहती हैं !

चने की ह्च सी -5 ( HC-5) किसम के बीज के लिये सम्पर्क करे : श्री जगदीप सिंह ढ़िल्लों, पंजाब ( 9915463033) य़ा श्री राजिन्द्र पवार मध्य प्रदेश ( 9907236006)

विडिओ देखें .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *