यह मशीन करती है गेहूं की नई तकनीक से बुवाई ,कम पानी में होती है अधिक सिंचाई

समय के साथ-साथ खेती में आधुनिक तकनीकों का इस्तेमाल बढ़ रहा है। अभी भी बहुत से किसान गेहूं की बुवाई बीज को हाथों से छिड़क कर ही करते हैं, लेकिन आज के समय ऐसी मशीन आ गई है जिससे किसान गेहूं की बुवाई कर सकते हैं, जिससे न सिर्फ समय की बचत होती है बल्कि इससे कई और फायदे भी होते हैं। आइये हम आपको बताते हैं कि ट्रैक्टर चालित रेज्ड बेड सीड ड्रिल से गेहूं की बुवाई कैसे होती है और इसके क्या फायदे हैं।

ट्रैक्टर चालित रेज्ड बेड सीड ड्रिल मशीन (Raised Bed Seed Drill Machine) मिट्टी उठा कर बुवाई करने की तकनीक पर आधारित है। इसमें मिट्टी उठाने के लिये रिजर तथा बेड बनाने के लिये बेड शेपर लगे होते हैं। रेजर बनने वाली नाली (बरे) की चौड़ाई घटाई-बढ़ाई जा सकती है। मशीन के अगले भाग में लगे रेजर मिट्टी उठाने के लिये का कार्य करते हैं, फरो ओपनर इस उठी हुई मिट्टी पर बुवाई करता हैं, तथा बेड शेपर उस उठी हुई मिट्टी को रूप देते हैं।इस प्लांटर के द्वारा बेड पर दो या तीन लाइन बीज एवं खाद की बुवाई की जाती है।

इस तकनीक से बुवाई करने से फसल वर्षा के पानी का भरपूर उपयोग करती है तथा सिंचाई की स्थिति में काफी कम पानी लगता है तथा कार्य जल्दी पूरा हो जाता है। इस मशीन के द्वारा 25 प्रतिशत खाद एवं बीज की बचत होती है। इस पद्धति से बुवाई करने से 4 एकड़ की सिंचाई करने में जितना पानी लगता है उतने ही पानी से 6 से 8 एकड़ की सिंचाई की जा सकती है।इस प्लांटर के द्वारा बुवाई करने के बाद निकाई गुड़ाई आसानी से की जा सकती है।

साथ ही इस विधि से गेहूं की बुवाई करने से आप ज्यादा उत्पादन ले सकते है और नदीन भी बहुत कम उगते है । रेज्ड बेड सीड ड्रिल से सिर्फ गेहूं ही नहीं और भी बहुत सारी फसलें जैसे मक्का ,सोयबीन,दालें आदि की बुवाई कर सकते है । बहुत सारी कंपनी यह मशीन बनाती है आप किसी भी बुवाई मशीन त्यार करने वाली वर्कशाप पर पता कर सकते है ।

यह मशीन कैसे बिजाई करती है उसके लिए वीडियो देखें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *