सवाई घास उगाकर करें 1.20 लाख तक की कमाई, सरकार दे रही सब्सिडी

खादी एवं विलेज इंडस्‍ट्री कमीशन लोगों को सवाई घास उगाने और फाइबर बैन (प्‍लाई यार्न) मेकिंग यूनिट लगाने के लिए प्रेरित कर रहा है। इसके लिए कमीशन द्वारा सब्सिडी तक दी जा रही है।ऐसे में, यदि आपके पास जमीन है या आप जमीन किराये पर ले सकते हैं तो आप एक अच्‍छा खासा बिजनेस शुरू कर सकते हैं। इसके लिए केवीआईसी द्वारा लोन दिया जाता है और लोन पर सब्सिडी दी जाती है।

आज हम आपको बताएंगे कि कैसे आप यह बिजनेस शुरू कर सकते हैं। सबसे पहले जानिए, सवाई घास क्‍या होती है?

क्‍या है सवाई घास

सवाई घास उन इलाकों में उगती है, जहां का सालाना रैन फाल 30 से 60 इंच होती है। यह घास मिट्टी के क्षरण को रोकती है। इस घास को नवंबर में काटा जाता है, जब यह काफी लम्‍बी हो जाती है।

इस घास का इस्‍तेमाल रस्‍सी बनाने के लिए होता है। रस्‍सी इतनी मजबूत होती है कि इससे झूला और पुल तक बनाए जाते हैं। इसके अलावा इससे मेट, सोल, अपर्स के अलावा कई तरह की सजावटी और दैनिक रोजमर्रा की चीजें बनती हैं।

क्‍या है प्रोजेक्‍ट कॉस्‍ट

खादी एंड विलेज इंडस्‍ट्रीज कमीशन द्वारा ग्रामोद्योग रोजगार योजना के लिए तैयार किए प्रोजेक्‍ट प्रोफाइल के मुताबिक, आपके इस प्रोजेक्‍ट की कॉस्‍ट लगभग 80 हजार रुपए है। अगर आपके पास जमीन है तो आप मात्र 250 वर्ग फुट का कच्‍चा शेड बना सकते हैं।

इसके अलावा आपको बैन मेकिंग मशीन, हैमर और टूल्‍स लेने होंगे। इस पर लगभग 45 हजार रुपए खर्च होंगे, जबकि एक महीने की वर्किंग कैपिटल 35000 रुपए होगी। यानी कि प्रोजेक्‍ट कॉस्‍ट 80 हजार रुपए होगी।

कितना मिलेगा लोन

अगर आप इस प्रोजेक्‍ट रिपोर्ट के आधार पर प्रधानमंत्री रोजगार योजना के तहत लोन के लिए अप्‍लाई करते हैं तो आपको लगभग 72 हजार रुपए का लोन मिल सकता है।

यानी कि आपको केवल 10 फीसदी यानी 8000 रुपए लगाने होंगे। इस पर आपको 15 से 25 फीसदी तक सब्सिडी मिल जाएगी।

क्‍या होगी कमाई

खादी विलेज इंडस्‍ट्री कमीशन द्वारा तैयार की गई इस रिपोर्ट के मुताबिक, आपका कुल कॉस्‍ट ऑफ प्रोडक्‍शन लगभग 1 लाख 78 हजार रुपए आएगा और अगर आपके द्वारा उगाई गई घास पूरी बिक जाती है तो आपकी प्रोजेक्‍टेड सेल्‍स 3 लाख रुपए होगी। यानी कि आपका ग्रोस सरप्‍लस 1 लाख 21 हजार रहेगी और आपकी नेक्‍ट इनकम 1 लाख 18 हजार रुपए हो सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *