सालों पुराने पेड़ों को उखाड़कर दूसरे जगह रोपता है ये मशीन, इन खास तकनीक से है लैस

अब भारत के बड़े बड़े शहरों में कम से कम उन पेड़ों को काटने की जरूरत नहीं रह गई, जो 20 साल तक पुराने हैं, या जिनकी जड़े 6-7 फुट गहराई तक ही गई हैं। अलग-अलग प्रोजेक्ट में रुकावट बन रहे पेड़ों को काटना नहीं पड़ेगा।

बल्कि जर्मनी की एक मशीन के जरिए इन्हें उखाड़कर दूसरी जगह लगा दिया सकते है। दिलचस्प बात ये है कि जिन पेड़ों का पता बदला है, उसमें से 99 फीसदी लहलहा रहे हैं। लगाए जाने के बाद हल्की बारिश ने इन पेड़ों में फिर से जान फूंक दी है।

जर्मनी तकनीक से है लैस

जर्मनी से आयातित इस मशीन को ट्री ट्रांसप्लांटर मशीन कहते है । भारत में यह मशीन जर्मनी से मंगवाई है। खास किस्म के बुलडोजर जैसी दिखने वाली एक मशीन 1.75 करोड़ रुपए की है। दरअसल पूरा सिस्टम एक भारी वाहन के रूप में असेंबल्ड है। एक्सपर्ट ने बताया कि सिर्फ 10 लीटर डीजल में यह मशीन एक घंटे में एक पेड़ उखाड़कर इसे दूसरी जगह लगा देती है।

 फीट मोटे पेड़ पर सफल

ट्री ट्रांसप्लांटर मशीन से 36 इंच (तीन फीट चौड़ाई ) वाले पेड़ को आसानी से उखाड़ा जा सकता है। मशीन को आपरेट करने वाले इश्तियाक अहमद ने बताया कि इससे 15-20 साल पुराने पेड़ को आसानी से उखाड़कर शिफ्ट किया जा सकता है। ऐसा हर पेड़ इस मशीन की जद में है, जिसकी जड़ें 6-7 फीट गहराई तक हों।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *