भारत के इन इलाकों में होने वाली है भारी बारिश और ओलावृष्टि

पिछले हफ्ते उत्तर भारत में कई जगह माध्यम से भारी बारिश और कुछ एक जगह हुई ओलावृष्टि के बाद से लगातार मौसम साफ़ बना हुआ है और गर्मी का माहौल बन रहा है। लेकिन अब एक और पश्चिमी विक्षोभ 4 मार्च से पुरे उत्तर भारत को प्रभावित करने वाला है। जिससे बहुत से इलाकों में फिर से भारी बारिश के साथ ओलावृष्टि की संभावना बताई जा रही है।

मौसम विभाग के अनुसार ये पश्चिमी विक्षोभ 4 मार्च की दोपहर तक पहाड़ी राज्यों को प्रभावित करना शुरू कर देगा। साथ ही रक चक्रवाती परिसंचरण भी 4 मार्च की शाम तक पश्चिमी राजस्थान पर प्रभावी हो जाएगा, जो कि अरब सागर से उच्च नमी को खींचेगा और बंगाल की खाड़ी से भी मैदानों में पूर्वा हवाएं आएंगी जो मैदानों में प्रणाली को और अधिक तीव्र बना देगा।

जिसके कारण पंजाब और राजस्थान के उत्तर-पश्चिमी इलाकों में 4 मार्च की शाम तक बारिश और ओलावृष्टि शुरू होने की संभावना है। उसके बाद कल यानि 5 मार्च को दोपहर तक पंजाब के साथ साथ उत्तरी और मध्य हरियाणा, उत्तरी राजस्थान, दिल्ली और पश्चिमी उत्तरप्रदेश के ज्यादातर हिस्सों में बारिश शुरू हो जाएगी। ये सिस्टम 6 मार्च को अपनी चार्म तीव्रता पर होगा। हलाकि उसके बाद 7 मार्च की शाम तक यह उत्तर भारत की पहाड़ियों और मैदानों दोनों से साफ होने लगेगा।

मौसम विभाग का कहना है कि इस अवधि के दौरान कश्मीर, लद्दाख, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड की ऊपरी पहाड़ियों पर भारी से बहुत भारी बर्फबारी की उम्मीद है और निचले इलाकों में भारी बारिश और ओलावृष्टि की संभावना है। साथ ही इस के असर से मैदानी इलाकों में पंजाब, हरियाणा, चंडीगढ़, दिल्ली एनसीआर, उत्तर पश्चिम राजस्थान और उत्तरप्रदेश के ज्यादातर हिस्सों में मध्यम से भारी बारिश हो सकती है।

इस सिस्टम के असर के दौरान जम्मू कश्मीर के जम्मू, कटरा, उधमपुर, पटनीटॉप, रामबन, बनिहाल, रामनगर, रामगढ़, बटोट, कुलगाम और राजौरी में मध्यम से भारी बारिश होने का अनुमान है। साथ ही कुछ जगहों पर गरज-चमक के साथ-साथ ओलावृष्टि भी देखने को मिल सकती है। इसी तरह हिमाचल के ज्यादातर इलाकों जैसे कांगड़ा, धर्मशाला, चम्बा, हमीरपुर, ऊना, मंडी, नाहन, सोलन, बिलासपुर और सुंदरनगर में भी इस अवधि के दौरान मध्यम से भारी बारिश होने की उम्मीद है। और कई जगहों पर गड़गड़ाहट के साथ-साथ ओलावृष्टि भी हो सकती है।

वहीं पंजाब में भी इस सिस्टम का काफी असर देखने को मिल सकता है जिसके चलते अमृतसर, पठानकोट, गुरदासपुर, होसियारपुर, बलाचौर, नवांशहर, जालंधर, मोगा, मनसा, बठिंडा, संगरूर, नाभा, लुधियाना, कपूरथला और रूपनगर में भारी बारिश के साथ ज्यादातर हिस्सों में इस समय के दौरान बादल छाए रहेंगे जिसमें फतेहगढ़ साहिब, पटियाला, मोहाली और चंडीगढ़ भी शामिल है और कुछ एक जगहों पर ओलावृष्टि की संभावना भी है।

हरियाणा और दिल्ली एनसीआर में पंचकूला, यमुनानगर, अंबाला, कुरुक्षेत्र, करनाल, कैथल, जींद, पानीपत, रोहतक, हिसार, भिवानी, सिरसा, फतेहबाद, महेंद्रनगर,नारनौल, मेवात, रेवाड़ी, नूंह, पलवल, सोनीपत, झज्जर, गुड़गांव फरीदाबाद और राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के भी ज्यादातर हिस्सों में बादल छाए रहेंगे और तेज हवाओं के साथ साथ हल्की से मध्यम बारिश सम्भव है।

राजस्थान में भी इस समय के दौरान बारिश जारी रहेगी और श्रीगंगानगर, बीकानेर, हनुमानगढ़, चुरू, जयपुर झुंझुनूं, सीकर, अलवर, बाड़मेर, जैसलमेर, जालोर, नागौर, पाली, भतारपुर, बूंदी, चित्तौड़गढ़,धौलपुर, करौली, कोटा, राजसमंद में आंशिक रूप से बादल छाए रहेंगे और हल्की से मध्यम बारिश तेज हवाओं के साथ हो सकती है। इन सभी जगहों पर 5-7 मार्च के दौरान तापमान में 2-7 डिग्री सेल्सियस तक गिरावट की संभावना है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.