यहां पर 7600 रुपए क्विंटल बिक रही सरसों की फसल, जानें सरसों के ताज़ा भाव

जब किसानों की फसल सही सलामत मंडी तक पहुंचती है तभी किसानों की अच्छी आमदनी होती है। फसल जब तक खेतों में खड़ी रहती है, किसानों को उस समय तक कई चिंताएं सताती रहती है। फसल के ऊपर रोग और कीट का खतरा मंडराता रहता है, इसी के साथ ही कई जगह प्राकृतिक आपदाओं की वजह से भी फसल बर्बाद हो जाती है।

ऐसे में सभी किसान सिर्फ यही चाहते हैं कि उनकी फसल मंडी तक सुरक्षित पहुँच जाए और उसका सही दाम मिल जाए। इस समय भारत की मंडियों में सरसों की फसल पहुंच रही है। देश में अलग अलग राज्य सरकारों ने सरसों का भाव यानि MSP अलग- अलग रखा है। आज हम आपको भारत की प्रमुख मंडियों में सरसों के ताज़ा भाव के बारे में जानकारी देंगे।

सबसे पहले हरियाणा की मंडियों की बात करें तो पिछले करीब 10 दिनों से सरसों के दामों में आई तेजी से किसानों के चेहरे खिले हुए हैं। शुरुआत में जहां काली सरसों के दाम छह हजार रुपये और पीली सरसों के दाम करीब सात हजार से 7100 रुपये तक थे, अब यही दाम बढ़कर 6600 रुपये और 7600 रुपये प्रति क्विंटल तक पहुंच चुके हैं।

थानेसर मंडी में सरसों का ताज़ा भाव 7600 रुपए प्रति क्विंटल चल रहा है। वहीँ हिसार में सरसों 6800 रुपए तक , आदमपुर मंडी में 6500 से 6810 रुपए, रेवाडी में 6600 रुपए और ऐलनाबाद मंडी में सरसों का भाव 6740 रुपए प्रति क्विंटल तक मिल रहा है।

इसके बाद राजस्थान की मंडियों की बात करें तो जयपुर मंडी में सरसों का रेट 6700 रुपए प्रति क्विंटल, श्रीगंगानगर में 6600 रुपए प्रति क्विंटल, जोधपुर में 6570 रुपए और चिडावा मंडी में सरसों की फसल 6560 रुपए प्रति क्विंटल तक बिक रही है।

किसानों को सरसों के दाम MSP से भी ज्यादा मिल रहे हैं और अच्छे दाम मिलने से किसानों के चेहरे खुशी से खिले हुए हैं। पीला सोना कहे जाने वाली पीली सरसों के दाम ज्यादातर मंडियों में 7 हजार के पार पहुँच गए हैं। आपको बता दें कि दो साल पहले सरसों 3500 से 4500 रुपये प्रति क्विंटल के भाव में ही बिकी थी। लेकिन इस साल शुरुआत से ही दाम 6000 रुपये मिल रहे हैं। अभी सरसों के दाम आने वाले दिन में और भी बड्स बढ़ सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.