गेहूं की खेती करने वाले किसानों के लिए बड़ी खुशखबरी

गेहूं की खेती करने वाले किसानों के लिए एक बड़ी खुशखबरी है, क्योकि इस बार उनकी फसल दोगुना से भी ज्यादा भाव में बिक सकती है। यानि कि गेहूं की कीमतों में इस बार बड़ी तेज़ी आने की संभावना है। आपको बता दें कि रूस और यूक्रेन में तनाव अब युद्ध के करीब पहुंच गया है।

रूस के राष्ट्रपति पुतिन ने यूक्रेन के पूर्वी क्षेत्र के दोनेत्स्क और लुहान्स्क इलाके को मान्यता देते हुए वहां सेना भेजने का फैसला किया है। अगर इन देशों के बीच युद्ध हुआ तो फिर जौ के साथ साथ गेहूं की कीमतें काफी ज्यादा प्रभावित होने की आशंका है। इसी वजह से गेहूं का रेट बढ़ेगा और डिमांड ज्यादा होने की वजह से भाव दोगुना तक भी बढ़ सकते हैं जिससे किसानों का मुनाफा भी डबल हो जाएगा।

आपको बता दें कि रूस जौ का सबसे बड़ा उत्पादक देश है, वहां सालाना उत्पादन 1.8 करोड़ टन के आसपास होता है। इसी तरह यूक्रेन जौ उत्पादन में विश्व में चौथे नंबर पर है जहाँ उत्पादन 95 लाख टन के आसपास है। भारत में फसल सीज़न 2021-22 में जौ का उत्पादन 19 लाख टन होने का अनुमान है। भारत में कुछ प्रीमियम ब्रांड को छोड़ दें तो बेवरेज कंपनियां घरेलू बाजार से ही जौ खरीदती हैं।

लेकिन अगर रूस और यूक्रेन से सप्लाई बंद होती है तो जौं की कीमतों में भी बहुत भारी उछाल देखने को मिल सकता है।अगर रूस और यूक्रेन का युद्ध हुआ तो फिर जौ के साथ ही गेहूं और मक्का का निर्यात भी प्रभावित होगा और विश्व स्तर पर कीमतों में तेजी आएगी। गर्मियां आने वाली हैं और गर्मियों में बियर की खपत अधिक होती है। दुनिया में ज्यादातर बियर जौ से ही बनती है।

बीते एक साल में जौ की कीमत 40 से 50 फीसदी तक बढ़ चुकी हैं तथा रूस और यूक्रेन के बीच युद्ध होने पर जौ की ग्लोबल सप्लाई बाधित होगी और दाम और भी बढ़ेंगे। ऐसे में गेहूं और जौं की खेती करने वाले किसानों को बहुत बड़ा फायदा होगा और उनकी फसल दोगुना से भी ज्यादा मुनाफा दे सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.